Mere Khwabon Mein lyrics

by

Lata Mangeshkar


मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
उसे कहां कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
उसे कहां कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आये

कैसा है कौन है वो जाने कहाँ है
हो कैसा है कौन है वह जाने कहाँ है
जिसके लिए मेरे होठों पे आह है
अपना है या बेगाना है वो
सच है या कोई अफसाना है वो
देखे घूर घूर के यूँही दूर दूर से
उसे कहो मेरी नींद न चुराये
मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
उसे कहां कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आये

जादू से जैसे कोई चलने लगा है
हो जादू से जैसे कोई चलने लगा है
मैं क्या करूँ दिल मचलने लगा है
तेरा दीवाना कहता है वो
चुप चुप से फिर क्यों रहता है वो
कर बैठा भूल वो ले आया फूल वो
उसे कहो जाए चाँद लेके आये
मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
मेरे ख़्वाबों में जो आये
आके मुझे छेड़ जाए
उसे कहां कभी सामने तो आए
A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z #
Copyright © 2012 - 2021 BeeLyrics.Net